Skip to main content

Posts

Love story

दोस्तों हर लव स्टोरी क्या अंत एक जैसा नहीं होता।कभी दो सच्चे प्यार करने वाले समाज की वजह से मिल नहीं पाते तो कभी परिस्थिति की वजह से। दिशा और आशीष की लव स्टोरी ऐसे ही है जिसे सुनकर आप कभी आंखें नम हो जाएंगे,कि कैसा दोनों की बीच इतना गहरा प्यार होने पर भी नियति ने उनके साथ कैसा खेल खेला है। दिशा और आशीष एक दूसरे से कलश की समय से प्रेम करते थे।दोनों ने एक दूसरे से शादी करने का फैसला भी किया। इन दोनों की मंगनी भी हो चुकी है और 2 महीने के बाद इन दोनों की शादी है। लेकिन शादी के पहले कुछ ऐसा हो जाता है जिसके किसी ने उम्मीद भी नहीं की। 1 दिन आशीष की फोन पर दिशा का कॉल आता है।दिशा बोलती है, हेलो आशीष।आशीष बोलता है, हां बोलो दिशा।दिशा बोलता है , I miss you। आशीष बोलता है हां मुझे भी सुबह से तुम्हारी बहुत याद आ रही है और पता नहीं आज सुबह से मन थोड़ा घबरा रहा है।
Recent posts

Hindi Love story

Hindi Love story Hindi Love story, दोस्तों हर लव स्टोरी क्या अंत एक जैसा नहीं होता।कभी दो सच्चे प्यार करने वाले समाज की वजह से मिल नहीं पाते तो कभी परिस्थिति की वजह से। दिशा और आशीष की लव स्टोरी ऐसे ही है जिसे सुनकर आप कभी आंखें नम हो जाएंगे,कि कैसा दोनों की बीच इतना गहरा प्यार होने पर भी नियति ने उनके साथ कैसा खेल खेला है। दिशा और आशीष एक दूसरे से कलश की समय से प्रेम करते थे।दोनों ने एक दूसरे से शादी करने का फैसला भी किया। इन दोनों की मंगनी भी हो चुकी है और 2 महीने के बाद इन दोनों की शादी है। लेकिन शादी के पहले कुछ ऐसा हो जाता है जिसके किसी ने उम्मीद भी नहीं की। 1 दिन आशीष की फोन पर दिशा का कॉल आता है।दिशा बोलती है, हेलो आशीष।आशीष बोलता है, हां बोलो दिशा।दिशा बोलता है , I miss you। आशीष बोलता है हां मुझे भी सुबह से तुम्हारी बहुत याद आ रही है और पता नहीं आज सुबह से मन थोड़ा घबरा रहा है।

Bhoot ki kahaniya in hindi

Bhoot ki kahaniya in hindi Source:-pixabay.com Bhoot ki kahaniya in hindi   Bhoot ki kahaniya in hindi ,एक कहानी मेरा दोस्त विक्रम की सच्ची कहानी पर आधारित है.16 जून 2008 की रात 26 साल की विक्रम के साथ एक ऐसा हादसा हुआ जिसे सोचकर वह आज भी चैन से सो नहीं पाता है. विक्रम की नई नई शादी हुई थी और उस रात को अपने पत्नी के साथ पहली बार सुहागरात मनाने वाला था.उसकी दुल्हन उसका बेडरूम में इंतजार कर रही थी. पूरा कमरा फूलों से सजा हुआ था और बिस्तर पर गुलाब की फूल बिछे हुए थे.विक्रम वैसे तो बहुत खुश था लेकिन एक बात उसे बहुत परेशान कर रहे थे. Read more:-Bast motivational story in hindi उसकी शादी के 4 दिन पहले वह लेट नाइट अपने दोस्तों के साथ अपनी बैचलर पार्टी करके वापस आ रहा था.तभी उसके सामने एक गाड़ी ने एक औरत को पूरी तरह कुचल दिया. Bhoot ki kahaniya in hindi, विक्रम को समझ नहीं आया कि वह क्या करें,विक्रम ने उस औरत को रास्ते पर तड़पते हुए छोड़कर घर आ गए.तब से विक्रम के दिमाग में बस उसी औरत का चेहरा सामने आ रहा था और उसे वैसे छोड़ने के लिए खुद को दोषी मान रहे थे. विक्रम जब कमरे मे

Albert Einstein biography in hindi-2020

जानिए महान वैज्ञानिक  अल्बर्ट आइंस्टीन   जीवनी(2020)| Albert Einstein biography in hindi. अल्बर्ट आइंस्टीन को अक्सर 20 वीं सदी के सबसे प्रभावशाली वैज्ञानिकों में से एक के रूप में जाना जाता है।उनका  काम खगोलविदों को गुरुत्वाकर्षण तरंगों से बुध की कक्षा तक सब कुछ अध्ययन करने में मदद करना जारी रखता है। वैज्ञानिक का समीकरण जिसने विशेष सापेक्षता की व्याख्या करने में मदद की -  E=MC2- उन लोगों के बीच भी प्रसिद्ध है जो इसके अंतर्निहित भौतिकी को नहीं समझते हैं। आइंस्टीन अपने सामान्य सापेक्षता के सिद्धांत (गुरुत्वाकर्षण की व्याख्या), और फोटोइलेक्ट्रिक प्रभाव (जो कुछ परिस्थितियों में इलेक्ट्रॉनों के व्यवहार की व्याख्या करता है) के लिए भी जाना जाता है; बाद में उनके काम ने उन्हें 1921 में भौतिकी का नोबेल पुरस्कार दिया। आइंस्टीन ने ब्रह्मांड के सभी बलों को एक सिद्धांत, या सब कुछ के सिद्धांत को एकजुट करने की भी कोशिश की, जो वह अभी भी अपनी मृत्यु के समय काम कर रहे थे। Source: pixabay.com Albert Einstein जन्म – 14 मार्च 1879, उल्मा, जर्मनी मृत्यु – 18 अप्रैल 1955, न्यू जर्सी, अमेर

Best Motivational Story in hindi-2020

Best Motivational Story in hindi-2020 BAST MOTIVATIONAL STORY IN HINDI Best Motivational Story in Hindi   कि इस कहानी में मैं आप लोगों के साथ ऐसा कहानी शेयर करूंगा जिसको सुनते ही आप लोगों के रोंगटे खड़े हो जाएंगे और आप लोग भी अपने आंसू रोक नहीं पाएंगे। महान चिकित्सक ऐप डॉक्टर बड़ी तेजी से हॉस्पिटल में प्रवेश कर रहा है।दरअसल उन्हें एक्सीडेंट की मामले में तुरंत बुलाया गया था।अंदर प्रवेश करते ही उन्होंने देखा कि जिस लड़के ने एक्सीडेंट किया है उसका परिजन उनको बेसब्री से इंतजार कर रहा है। डॉक्टर को देखते ही लड़के का पिता ने कहा कि आप आप आ रहा है हम आपका कब से इंतजार कर रहा है।आप लोग अपनी ड्यूटी ठीक से क्यों नहीं करते हो।अगर मेरे बेटे को कुछ हुआ तो इसके जिम्मेदार आप लोग होंगे। डॉक्टर ने ए सब सुनकर कहा मुझको माफ कर दीजिए मैं हॉस्पिटल में नहीं था।मुझे जैसे ही फोन आया उसके बाद जितनी तेजी से हो सकता था उतना तेजी से हॉस्पिटल आने की कोशिश की। प्लीज आप शांत हो जाइए घबराइए मत।लड़के का पिता ने कहा ऐसे कैसे मैं शांत हो जाओ आपका बेटा होता तो आप भी ऐसा बात करते।अगर किसी लापरवाही की वज

Love Story in Hindi:हिंदी कहानी

Stories of love in hindi:हिंदी कहानी STORIES OF LOVE IN HINDI दिल छूने वाली सच्ची प्रेम कहानी Stories of love in hindi   की कहानी में मैं आज ऐसा कहानी बताऊंगा जिसको सुनकर आप लोग अपना आंसू रोक नहीं पाओगे। लेकिन क्लास में एक लड़की नहीं तो किसी से बात करती थी और नही किसी की तरफ देखते थी।शायद इस लड़की को इन सभी चीजोंमें Interest नहीं था। मैं तो दोस्तों के साथ खाने में, दोस्तों के साथ पढ़ने में, दोस्तों के साथ घूमने में, मुझे बहुत मजा आता था।1 दिन मेरा दोस्त विजय ने मेरे साथ शर्त लगानेको कहीं। मैंने उससे पूछा किस चीज पर।विजय ने कहा तुझ में दम है तो उस लड़की को Propose करके देखा,और बस तेरे पास 1 महीने। मैं डर गया था दोस्तों।लेकिन वही बात हैना, जो काम कभी नहीं हो सकता उसे दोस्त करवा देता है। मेरा दोस्तों ने कहा कि कार्तिक तू कर सकता है भाई और मैंने दोस्तों की चैलेंज मार ली। अगले दिन मैं स्कूल में आया और मुझे बहुत डर लग रहा था।लेकिन मैंने हिम्मत करके सपना को Hii बोल दी, उसने मुझे halo कहा। फिर मैंने सपना को पूछा अपने मैथ का काम कर लिया?।फिर मैंने बा

Hindi kahaniya|हिंदी कहनियां|pariyon ki kahaniya|परियों की कहानीयां

Hindi kahaniya|हिंदी कहनियां|pariyon ki kahaniya|परियों की कहानियां हे लो दोस्तों ततों आप सब लोगों को Hindi kahaniya|हिंदी कहानीयां  में स्वागत करता हूं.मैं आज आप लोगों के लिए बहुत ही सुंदर परियों की कहानियां|pariyon ki kahaniya  लेकर  आया हूं. मैं आज जो कहानी सुनाऊंगा वह है 1. लाल परी 2.गुलाबी परी. Hindi kahaniya|हिंदी कहनियां Hindi kahaniya|हिंदी कहनियां|pariyon ki kahaniya|परियों की कहानीयां|लाल परी: उँगलियाँ अब थक चुकी थीं टाईप करते करते। मैं सीधा लेट गई। अस्पताल में हूँ न। जल्दी थक जाती हूँ। कूल्हे में ऑपरेशन हुआ है। कभी पहले वहाँ एक इंजेक्शन पडा था। वो हिस्सा पहले नर्म हुआ फिर सख्त। फिर दर्द का दायरा बढने लगा। शुरु में आदतन ध्यान नहीं दिया। हम भारतीय स्त्रियाँ हमेशा अपने स्वास्थ्य को नज़रांदाज़ करने वाली। शुतुरमुर्ग। न ध्यान दो तो शायद तकलीफ अपने आप गायब हो जाये। कोई जादू का हमेशा इंतज़ार। पर, न जी। ऐसा कोई जादू नहीं हुआ। उससे क्या? हम ढीठ स्त्रियाँ कभी सीखती हैं भला। कुत्ते की दुम कभी सीधी भी हुई है क्या। वर्षों के संस्कार, दबने कुचलाने के,