Skip to main content

Love story

दोस्तों हर लव स्टोरी क्या अंत एक जैसा नहीं होता।कभी दो सच्चे प्यार करने वाले समाज की वजह से मिल नहीं पाते तो कभी परिस्थिति की वजह से।

दिशा और आशीष की लव स्टोरी ऐसे ही है जिसे सुनकर आप कभी आंखें नम हो जाएंगे,कि कैसा दोनों की बीच इतना गहरा प्यार होने पर भी नियति ने उनके साथ कैसा खेल खेला है।

दिशा और आशीष एक दूसरे से कलश की समय से प्रेम करते थे।दोनों ने एक दूसरे से शादी करने का फैसला भी किया।

इन दोनों की मंगनी भी हो चुकी है और 2 महीने के बाद इन दोनों की शादी है।

लेकिन शादी के पहले कुछ ऐसा हो जाता है जिसके किसी ने उम्मीद भी नहीं की।

1 दिन आशीष की फोन पर दिशा का कॉल आता है।दिशा बोलती है, हेलो आशीष।आशीष बोलता है, हां बोलो दिशा।दिशा बोलता है , I miss you।

आशीष बोलता है हां मुझे भी सुबह से तुम्हारी बहुत याद आ रही है और पता नहीं आज सुबह से मन थोड़ा घबरा रहा है।

Comments

Popular posts from this blog

Best Motivational Story in hindi-2020

Best Motivational Story in hindi-2020

Albert Einstein biography in hindi-2020

जानिए महान वैज्ञानिक अल्बर्ट आइंस्टीनजीवनी(2020)|Albert Einstein biography in hindi.
अल्बर्ट आइंस्टीन को अक्सर 20 वीं सदी के सबसे प्रभावशाली वैज्ञानिकों में से एक के रूप में जाना जाता है।उनका  काम खगोलविदों को गुरुत्वाकर्षण तरंगों से बुध की कक्षा तक सब कुछ अध्ययन करने में मदद करना जारी रखता है।

वैज्ञानिक का समीकरण जिसने विशेष सापेक्षता की व्याख्या करने में मदद की - E=MC2- उन लोगों के बीच भी प्रसिद्ध है जो इसके अंतर्निहित भौतिकी को नहीं समझते हैं। आइंस्टीन अपने सामान्य सापेक्षता के सिद्धांत (गुरुत्वाकर्षण की व्याख्या), और फोटोइलेक्ट्रिक प्रभाव (जो कुछ परिस्थितियों में इलेक्ट्रॉनों के व्यवहार की व्याख्या करता है) के लिए भी जाना जाता है; बाद में उनके काम ने उन्हें 1921 में भौतिकी का नोबेल पुरस्कार दिया।

आइंस्टीन ने ब्रह्मांड के सभी बलों को एक सिद्धांत, या सब कुछ के सिद्धांत को एकजुट करने की भी कोशिश की, जो वह अभी भी अपनी मृत्यु के समय काम कर रहे थे।
जन्म – 14 मार्च 1879, उल्मा, जर्मनी मृत्यु – 18 अप्रैल 1955, न्यू जर्सी, अमेरिका पिता का नाम – हेमर्न आइन्स्टीन माता का नाम – पौलिन कोच Albert Einst…

Hindi kahaniya|हिंदी कहनियां|pariyon ki kahaniya|परियों की कहानीयां

Hindi kahaniya|हिंदी कहनियां|pariyon ki kahaniya|परियों की कहानियां हेलो दोस्तों ततों आप सब लोगों को Hindi kahaniya|हिंदी कहानीयां में स्वागत करता हूं.मैं आज आप लोगों के लिए बहुत ही सुंदर परियों की कहानियां|pariyon ki kahaniya लेकर आया हूं. मैं आज जो कहानी सुनाऊंगा वह है 1. लाल परी 2.गुलाबी परी.
Hindi kahaniya|हिंदी कहनियां|pariyon ki kahaniya|परियों की कहानीयां|लाल परी: उँगलियाँ अब थक चुकी थीं टाईप करते करते। मैं सीधा लेट गई। अस्पताल में हूँ न। जल्दी थक जाती हूँ। कूल्हे में ऑपरेशन हुआ है। कभी पहले वहाँ एक इंजेक्शन पडा था। वो हिस्सा पहले नर्म हुआ फिर सख्त। फिर दर्द का दायरा बढने लगा। शुरु में आदतन ध्यान नहीं दिया। हम भारतीय स्त्रियाँ हमेशा अपने स्वास्थ्य को नज़रांदाज़ करने वाली। शुतुरमुर्ग। न ध्यान दो तो शायद तकलीफ अपने आप गायब हो जाये। कोई जादू का हमेशा इंतज़ार। पर, न जी। ऐसा कोई जादू नहीं हुआ। उससे क्या? हम ढीठ स्त्रियाँ कभी सीखती हैं भला। कुत्ते की दुम कभी सीधी भी हुई है क्या। वर्षों के संस्कार, दबने कुचलाने के, ऐसा लहू में पेवस्त हो गया है कि अब उसके बिना जी नहीं मानता। क्या कहते हैं उसे…